Sunday, October 6, 2013

ग़ज़ल : यहाँ अब कातिलों को आज़माने कौन आता है

शहीदे-आज़म सरदार भगत सिँह
वतन की राह में सर को कटाने कौन आता है
वतन की आबरू देखें बचाने कौन आता है

कफ़न बाँधे हुए सर पर मैं निकला हूँ कि देखूँ तो
बचाने कौन आता है मिटाने कौन आता है

जो पहरेदार थे वो सब के सब हैं लूट में शामिल
जो मालिक हैं उन्हें, देखो जगाने कौन आता है

वतन को बेच कर खुशियाँ खरीदी जा रही हैं अब
वतन के वास्ते अब ग़म उठाने कौन आता है

वतन की ख़ाक का कर्ज़ा चुकाने का है ये मौका
चलो देखें कि ये कर्ज़ा चुकाने कौन आता है

परायों से लुटे अपनों ने लूटा फिर भी ज़िंदा हैं
कि देखें कौन सा दिन अब दिखाने कौन आता है

लिये वो सरफ़रोशी की तमन्ना दिल में ऐ अनमोल
यहाँ अब कातिलों को आज़माने कौन आता है

12 comments:

  1. शानदार गजल हार्दिक बधाई
    आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [07.10.2013]
    चर्चामंच 1391 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें |
    नवरात्र की हार्दिक शुभकामनाओं सहित
    सादर
    सरिता भाटिया

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद।
      सादर
      रवि कांत अनमोल

      Delete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - सोमवार - 07/10/2013 को
    अब देश में न आना तुम गाधी
    - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः31
    पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद।
      सादर
      रवि कांत अनमोल

      Delete
  3. आदरणीय उम्दा गजल के लिए आपको बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुकिया
      सादर
      रवि कांत अनमोल

      Delete
  4. परायों से लुटे अपनों ने लूटा फिर भी ज़िंदा हैं
    कि देखें कौन सा दिन अब दिखाने कौन आता है


    ओज से पूर्ण ग़ज़ल .बहुत कम ऐसे गज़ले लिखी जा रही हैं ...हैट्स ऑफ

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया
      सादर
      रवि कांत अनमोल

      Delete
  5. बेह्तरीन अभिव्यक्ति!!शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब कोई भी अल्फाज इसकी तारिफ के लिये छोटा होगा
    बेहतरीन

    ReplyDelete