Saturday, August 31, 2013

अध्यापक दिवस के लिए गीत

यह गीत मेरे सभी अध्यापकों को समर्पित है जिनके कारण आज मैं इसे लिख पाया
हूँ और इस योग्य बन पाया हूँ कि इसे आप तक पहुँचा सकूँ।

पढ़ना सिखाया, बढ़ना सिखाया, शुक्रिया आपका।

ये जीवन के रस्ते कब आसां थे
हम जाहिल थे, भोले थे, नादां थे
इंसां बनाया, रस्ता दिखाया, शुक्रिया आपका।

हम साज़ों में बंद पड़ी सरगम थे
हम टुकड़े थे धुंधले से ख़ाबों के
हमको सजाया, यूँ गुनगुनाया, शुक्रिया आपका ।

कल हम अपनी मंज़िल जब पाएंगे
दिन ये सारे याद हमें आएंगे
दिल से लगाया, जीना सिखाया, शुक्रिया आपका ।


--
रवि कांत 'अनमोल'
Site I recommend
http://www.competeindia.org
मेरी रचनाएं
http://aazaadnazm.blogspot.com
कविता कोश पर मेरी रचनाएं
http://www.kavitakosh.org/ravikantanmol

2 comments:

  1. गुरु के प्रति आभार व्यक्त करती सुंदर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद संगीता जी

    ReplyDelete