Friday, January 22, 2010

तांडव

भूख
जब नंगी होकर नाचती है
ज़मीर जल कर राख हो जाता है
और नैतिकता पैरों पर गिर पड़ती है
त्राहि त्राहि कर उठती है
शायद इसी नृत्य को
तांडव कहते हैं

रवि कांत 'अनमोल'

No comments:

Post a Comment