Friday, January 22, 2010

सम्मान



मेरा सम्मान मत करना
क्योंकि मैं एक इंसान हूँ
और इंसान में होती हैं
सौ बुराइयाँ भी
सौ कमज़ोरियाँ भी।
इंसान में होते हैं
सौ अवगुण भी
सौ दोष भी।
इसलिए
मुझे सम्मानित हर्ग़िज़ मत करना
क्योंकि जो हार तुम मुझे पहनाओगे
वही पहन लेंगी मेरी कमज़ोरियाँ भी
जिस आसन पर तुम मुझे बैठाओगे
मेरे साथ उसी पर बैठेंगे
मेरे दोष भी।
और मेरे दोस्त!
आसन पर बैठे हुए दोषों से बुरा
कुछ नहीं होता।
आसन पर बैठे दोष
दोषी बना देते हैं एक युग को।
सिंहासन पर बैठी कमज़ोरियाँ
कमज़ोर बना देती हैं एक पीढ़ी को।
इस लिए मत सम्मान देना मुझे
मेरे दोषों और कमज़ोरियों के साथ।
अगर कोई एकाध अच्छाई
मिल जाए मुझमें
तो सम्मान देना उसे।
मेरा नाम लिए बग़ैर
उसे पहनाना श्रद्धा के हार
और बैठा लेना
ह्रदय के सिंहासन पर
उसे।
मुझे नहीं।
क्योंकि मैं एक इंसान हूँ
और इंसान में होती हैं
सौ कमज़ोरियाँ भी,
सौ बुराइयाँ भी।
रवि कांत 'अनमोल'

2 comments:

  1. bahut hi sundar kavita , really beautiful, aapke blog ka naam aazad nazm hai, main ghazal se zyada aapki nazms padhna chahougi, vaise aap sach mein bahut accha likhte hain , ek dum saaf spasht bhaav seedhe dil mein utarte hain :)

    ReplyDelete
  2. Thanks for visiting the blog and commenting...I'll try to maintain the quality

    ReplyDelete